Wednesday, December 1, 2021

पश्चिम बंगाल चुनाव बाद हिंसा: कलकत्ता उच्च न्यायालय ने सीबीआई, एसआईटी जांच के आदेश दिए

कलकत्ता उच्च न्यायालय ने टीएमसी की ममता बनर्जी के सत्ता में लौटने के बाद राज्य में बड़े पैमाने पर चुनाव के बाद हुई हिंसा में मानवाधिकारों के उल्लंघन की अदालत की निगरानी में सीबीआई जांच का आदेश दिया है।

सत्तारूढ़ पार्टी टीएमसी के कार्यकर्ताओं और कार्यकर्ताओं द्वारा कथित रूप से राज्य भर में सामूहिक बलात्कार और हत्याओं के आरोप लगाए गए हैं। हाईकोर्ट ने सभी मामलों की जांच एसआईटी को सौंपी है, जिसकी निगरानी कोर्ट करेगी। एनएचआरसी में महिलाओं के खिलाफ हत्या और अपराधों से जुड़े मामलों की जांच सीबीआई करेगी जबकि अन्य मामलों की जांच एसआईटी करेगी।

एसआईटी में तीन आईपीएस अधिकारी शामिल होंगे, सुमन बाला साहू, सौमेन मित्रा और रणबीर कुमार, बार और बेंच ने बताया।

सीबीआई और एसआईटी को छह सप्ताह के भीतर अपनी रिपोर्ट सौंपनी है।

पीठ ने इससे पहले एनएचआरसी अध्यक्ष को चुनाव के बाद हुई हिंसा के दौरान मानवाधिकार उल्लंघन के आरोपों की जांच के लिए एक जांच समिति गठित करने का आदेश दिया था। पैनल ने अपनी रिपोर्ट में निष्कर्ष निकाला कि राज्य की वर्तमान स्थिति, ‘कानून के शासन’ के बजाय ‘शासक के कानून’ की अभिव्यक्ति है। इसमें कहा गया है कि पीड़ितों के बीच राज्य प्रशासन में विश्वास की कमी बहुत स्पष्ट है। वैधानिक निकाय ने कहा कि राष्ट्रीय महिला आयोग से महिलाओं से संबंधित 57 शिकायतों की एक सूची प्राप्त हुई थी।

हालांकि, राज्य सरकार ने एनएचआरसी की रिपोर्ट का विरोध किया है और पीड़ितों की बर्बरता की गवाही के बावजूद निष्पक्षता पर सवाल उठाया है।

Related Articles

कमेंट करे

कमेंट करें!
अपना नाम बताये

हमसे जुड़े

4,398फैंसलाइक करें
2,488फॉलोवरफॉलो करें
1,833सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें
- Advertisement -spot_img

ताज़ा खबरे