Thursday, December 2, 2021

राजस्थान : विधानसभा में शोकाभिव्यक्ति

जयपुर, 9 सितम्बर । पंद्रहवीं राज्य विधान सभा के पुनः शुरू हुए षष्ठम् सत्र के पहले दिन गुरूवार को विधानसभा में प्रदेश केे पूर्व राज्यपाल श्री कल्याण सिंह, पूर्व मुख्यमंत्री श्री जगन्नाथ पहाड़िया, केरल व बिहार के पूर्व राज्यपाल श्री रघुनन्दन लाल भाटिया, जम्मू एवं कश्मीर के पूर्व राज्यपाल श्री जगमोहन, हिमाचल प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री श्री वीरभद्र सिंह, असम के पूर्व मुख्यमंत्री श्री भूमिधर बर्मन, पूर्व सांसद श्री रासासिंह रावत, श्रीमती शान्ति पहाड़िया, श्री पारसाराम मेघवाल, श्री हेमेन्द्र सिंह बनेड़ा, श्री जयनारायण तथा श्री दीनबन्धु परमार, राज्य विधानसभा के पूर्व सदस्य श्री गौतम लाल, श्री गोपाल कृष्ण, श्री जीतमल खांट, श्री राईया मीणा, श्री शिवजीराम मीणा, श्री चुन्नीलाल धाकड़, श्री कालूराम यादव, श्री जनार्दन गहलोत, श्री मांगीलाल मेघवाल, श्री नारायण लाल मीणा, श्री महाराम चौधरी, श्री सैयद मोहम्मद अयाज महाराज तथा श्री कल्याणमल के निधन पर संवेदना व्यक्त करते हुये श्रद्धांजलि अर्पित की गई।
 
इस दौरान सदस्यों ने दो मिनट का मौन रखकर दिवंगत आत्माओं के प्रति शांति और उनके परिजनों को इस बिछोह को सहन करने की शक्ति प्रदान करने के लिए ईश्वर से प्रार्थना की।
 
प्रारम्भ में विधानसभा अध्यक्ष डॉ. सी.पी. जोशी ने शोक प्रस्ताव रखते हुए दिवंगत व्यक्तियों द्वारा राजनीतिक, सामाजिक एवं अन्य क्षेत्रों में दी गई सेवाओं की सराहना की।
 
डॉ. जोशी ने राज्य के पूर्व राज्यपाल तथा उत्तरप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री श्री कल्याण सिंह के व्यक्तित्व की चर्चा करते हुए कहा कि सदा जनकल्याण के लिए समर्पित रहे श्री सिंह वर्ष 2014 से 2019 तक राज्य के राज्यपाल रहे। वे दस बार उत्तरप्रदेश विधानसभा के सदस्य तथा दो बार उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री रहे। सरल व्यक्तित्व के धनी स्वर्गीय श्री कल्याण सिंह ने राजभवन में आम जनता की पहुंच सुनिश्चित करने का प्रयास किया तथा कई परम्पराओं को बदला। उनका निधन 21 अगस्त 2021 को हो गया।
 
विधानसभा अध्यक्ष ने प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री तथा बिहार व हरियाणा के पूर्व राज्यपाल स्वर्गीय श्री जगन्नाथ पहाड़िया द्वारा निभाई गई जिम्मेदारियों का उल्लेख करते हुए कहा कि वे सातवीं, आठवीं तथा बारहवीं विधानसभा में वैर विधानसभा क्षेत्र से तथा नवीं विधानसभा में कठूमर निर्वाचन क्षेत्र से निर्वाचित हुए। वे चार बार लोकसभा सदस्य तथा केन्द्र सरकार में वित्त मंत्रालय के उपमंत्री तथा राज्यमंत्री भी रहे। पिछड़े वर्ग के उत्थान एवं सामाजिक कुरीतियों के उन्मूलन के लिए समर्पित रहे स्वर्गीय श्री पहाड़िया अनेक सामाजिक संस्थाओं से जुड़े रहे। उनका निधन 19 मई, 2021 को हो गया।
 
डॉ. जोशी ने केरल एवं बिहार के पूर्व राज्यपाल श्री रघुनन्दन लाल भाटिया के व्यक्तित्व पर प्रकाश डालते हुए कहा कि वे छः बार लोकसभा के सदस्य रहे तथा केन्द्रीय सरकार में विदेश मामलात मंत्रालय के राज्यमंत्री भी रहे। लोकसभा कार्यकाल के दौरान वे विभिन्न समितियों के सदस्य भी रहे। उनका निधन 15 मई, 2021 को हो गया।
 
डॉ. जोशी ने जम्मू एवं कश्मीर के पूर्व राज्यपाल स्वर्गीय श्री जगमोहन के राजनीतिक जीवन की चर्चा करते हुये बताया कि वे तीन बार लोकसभा के सदस्य रहे तथा वर्ष 1990 से 1996 तक राज्यसभा के मनोनित सदस्य भी रहे। वे केन्द्रीय सरकार में संचार, शहरी विकास, पर्यटन एवं संस्कृति आदि मंत्रालयों के मंत्री भी रहे। उनकी कई पुस्तकें भी प्रकाशित हुई हैं। स्वर्गीय श्री जगमोहन को उनके उल्लेखनीय कार्यों के लिए पद्म श्री, पद्म भूषण, पद्म विभूषण सहित अनेक पुरस्कारों से सम्मानित किया गया। उनका निधन 3 मई, 2021 को हो गया।
 
विधानसभा अध्यक्ष ने हिमाचल प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री स्वर्गीय श्री वीरभद्र सिंह के व्यक्तित्व पर प्रकाश डालते हुए कहा कि वे 9 बार हिमाचल प्रदेश विधानसभा के सदस्य रहे। कुशल प्रशासक रहे श्री सिंह छह बार हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री रहे तथा पांच बार लोकसभा के सदस्य भी रहे। वे केन्द्र सरकार में विभिन्न विभागों के मंत्री भी रहे। श्री सिंह का निधन 8 जुलाई, 2021 को हो गया। डॉ. जोशी ने असम के पूर्व मुख्यमंत्री श्री भूमिधर बर्मन के राजनीतिक जीवन की चर्चा करते हुये कहा कि वे तीन दशकों से अधिक समय तक असम विधानसभा के सदस्य रहे। उनका निधन 18 अप्रैल, 2021 को हो गया।
 
विधानसभा अध्यक्ष ने पूर्व सांसद श्री रासासिंह रावत के बारे में बताया कि वे पांच बार लोकसभा के सदस्य रहे तथा लोकसभा में विभिन्न समितियों के सदस्य भी रहे। उनका निधन 10 मई, 2021 को हो गया।
 
डॉ. जोशी ने पूर्व सांसद एवं विधायक स्वर्गीय श्रीमती शान्ति पहाड़िया के राजनीतिक जीवन पर चर्चा करते हुये कहा कि वे सातवीं तथा ग्यारहवीं राज्य विधानसभा में विधायक रहीं। वे विधानसभा कार्यकाल के दौरान अनेक समितियों की सदस्य भी रहीं। उनका निधन 23 मई, 2021 को हो गया।
 
विधानसभा अध्यक्ष ने पूर्व सांसद स्वर्गीय श्री पारसाराम मेघवाल के व्यक्तित्व पर प्रकाश डालते हुए कहा कि वे लोकसभा में अपने निर्वाचन क्षेत्र जालौर की समस्याओं के निराकरण के लिए सदैव प्रयत्नशील रहे। उनका निधन 21 जुलाई, 2021 को हो गया। डॉ. जोशी ने पूर्व सांसद स्वर्गीय श्री हेमेन्द्र सिंह बनेड़ा के जीवन पर प्रकाश डालते हुए कहा कि वे पांचवी तथा नवीं लोकसभा में सांसद रहे। उनका निधन 31 मई, 2021 को हो गया।
 
विधानसभा अध्यक्ष ने पूर्व सांसद तथा राज्य विधानसभा सदस्य स्वर्गीय श्री जयनारायण के राजनैतिक जीवन पर प्रकाश डालते हुए बताया कि वे सातवीं लोकसभा के सदस्य रहे तथा राजस्थान वन श्रमिक सहकारी संघ के 25 वर्षों तक अध्यक्ष रहे। उनका निधन 5 मई, 2021 को हो गया। उन्होंने पूर्व सांसद एवं पूर्व विधायक स्वर्गीय श्री दीनबन्धु परमार के जीवन पर प्रकाश डालते हुए कहा कि सायरा विधानसभा क्षेत्र से विधायक रहे स्वर्गीय श्री परमार उदयपुर निर्वाचन क्षेत्र से सांसद भी रहे। उनका निधन 9 जून, 2021 को हो गया।
 
विधानसभा अध्यक्ष ने सदन के सदस्य स्वर्गीय श्री गौतमलाल के जीवन का परिचय देते हुए बताया कि वे बारहवीं, चौदहवीं तथा पन्द्रहवीं विधानसभा के सदस्य रहे तथा अपने कार्यकाल के दौरान विभिन्न समितियों के सदस्य भी रहे। उनका निधन 19 मई, 2021 को हो गया। डॉ. जोशी ने पांचवी, तेरहवीं तथा चौदहवीं विधानसभा के सदस्य रहे स्वर्गीय श्री गोपाल कृष्ण के जीवन पर भी प्रकाश डाला। उनका निधन 28 अप्रैल, 2021 को हो गया। ग्यारहवीं, बारहवीं तथा चौदहवीं राज्य विधानसभा के सदस्य रहे स्वर्गीय श्री जीतमल खांट का जीवन परिचय देते हुए डॉ. जोशी ने बताया कि श्री खांट विभिन्न समितियों के सदस्य रहे तथा सामान्य प्रशासन, सम्पदा, मुद्रण एवं लेखन सामग्री आदि विभागों के राज्यमंत्री भी रहे। श्री जीतमल खांट का निधन 24 मई, 2021 को हो गया।
 
डॉ. जोशी ने पूर्व सदस्य स्वर्गीय श्री राईया मीणा के बारे में बताया कि वे ग्यारहवीं, बारहवीं तथा तेरहवीं राज्य विधानसभा में आसपुर निर्वाचन क्षेत्र से विधायक रहे। उनका निधन 19 मई, 2021 को हो गया। उन्होंने बताया कि पूर्व राज्य विधानसभा सदस्य स्वर्गीय श्री शिवजीराम मीणा तीन बार जहाजपुर निर्वाचन क्षेत्र से विधायक निर्वाचित हुए। अनेक सामाजिक संगठनों से सम्बद्ध रहे श्री मीणा का निधन 12 मई, 2021 को हो गया।
 
विधानसभा अध्यक्ष ने बताया कि सदन के पूर्व सदस्य स्वर्गीय श्री चुन्नीलाल धाकड़ तीन बार बेगूं विधानसभा क्षेत्र से विधायक रहे। इस दौरान वे विभिन्न विभागों के राज्यमंत्री तथा याचिका समिति, गृह समिति, पिछड़े वर्ग के कल्याण सम्बन्धी समिति आदि के सदस्य भी रहे। उनका निधन 28 जून, 2021 को हो गया।
 
डॉ. जोशी ने बताया कि पूर्व सदस्य स्वर्गीय श्री कालूराम यादव हिण्डौन विधानसभा क्षेत्र से विधायक रहे। अपने कार्यकाल के दौरान वे अनुसूचित जाति कल्याण समिति के सदस्य भी रहे। उनका निधन 6 मई, 2021 को हो गया। उन्होंने पूर्व सदस्य स्वर्गीय श्री जर्नादन गहलोत के बारे में बताया कि वे चार बार विधानसभा सदस्य निर्वाचित हुए तथा राज्य सरकार में खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री भी रहे। खेलकूद को प्रोत्साहित देने वाले स्वर्गीय श्री गहलोत भारतीय कबड्डी संघ के अध्यक्ष तथा भारतीय ऑलम्पिक संघ के उपाध्यक्ष रहे। उनका निधन 29 अप्रैल, 2021 को हो गया।
 
डॉ. जोशी ने विधानसभा के पूर्व सदस्य स्वर्गीय श्री मांगीलाल मेघवाल के राजनैतिक जीवन पर प्रकाश डालते हुए बताया कि वे आठवीं, नवीं तथा दसवीं विधानसभा में विधायक रहे। समाजसेवा में रुचि रखने वाले स्वर्गीय श्री मेघवाल अपने निर्वाचन क्षेत्र की समस्याओं के लिए सदैव प्रयत्नशील रहे। उनका 4 जुलाई, 2021 को निधन हो गया। पूर्व सदस्य स्वर्गीय श्री नारायण लाल मीणा के बारे में विधानसभा अध्यक्ष ने बताया कि श्री मीणा तीन बार राज्य विधानसभा में विधायक रहे तथा वे अधीनस्थ विधान सम्बन्धी समिति एवं अनुसूचित जनजाति कल्याण समिति के सदस्य भी रहे। उनका 5 मई, 2021 को निधन हो गया।
 
विधानसभा अध्यक्ष ने पूर्व विधायक स्वर्गीय श्री महाराम चौधरी के राजनैतिक जीवन पर प्रकाश डालते हुए बताया कि वे सातवीं राज्य विधान सभा में नागौर विधानसभा क्षेत्र से विधायक रहे। उनका 8 अगस्त, 2021 को निधन हो गया।
 
डॉ. जोशी ने पूर्व सदस्य स्वर्गीय श्री सैयद मोहम्मद अयाज महाराज के जीवन पर प्रकाश डालते हुए बताया कि वे सातवीं राजस्थान विधानसभा में मसुदा निर्वाचन क्षेत्र से विधायक रहे तथा इस दौरान वे जनलेखा तथा संसदीय परामर्श दात्री समिति के सदस्य भी रहे। श्री अयाज का 30 मार्च, 2021 को निधन हो गया। विधानसभा अध्यक्ष ने पूर्व विधायक स्वर्गीय श्री कल्याणमल के बारे में बताया कि वे चौथी राजस्थान विधानसभा में जहाजपुर निर्वाचन क्षेत्र से विधायक रहे तथा वे अपनी क्षेत्र की समस्याओं के लिए सदैव प्रयत्नशील रहे। उनका 16 मई, 2021 को निधन हो गया। डॉ. जोशी ने 11 जुलाई, 2021 को जयपुर, धौलपुर व कोटा में आकाशीय बिजली गिरने से सात बच्चों सहित 18 लोगों की मृत्यु पर भी शोक प्रकट किया।

Related Articles

कमेंट करे

कमेंट करें!
अपना नाम बताये

हमसे जुड़े

4,398फैंसलाइक करें
2,488फॉलोवरफॉलो करें
1,833सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें
- Advertisement -spot_img

ताज़ा खबरे